आतंकियों के संरक्षक चीन से व्यापार कैसा

भारत के बहुत सारे व्यापारियों ने इस दीपावली नुकसान उठा कर भी चीनी पटाखों और लड़ियों का बहिष्कार करना तय किया है। सोशल मीडिया में भारत के व्यापारी और उपभोक्ता दोनों ही चीनी माल के बहिष्कार के लिए मुहीम चला रहे हैं। आज भारत विश्व की सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था होने के साथ ही चीन का एक प्रमुख बाजार भी है। हिंदुस्तानियों द्वारा चीनी माल का बहिष्कार निश्चय ही चीन को सबक सीखा देगा, जो एक तरफ तो भारत से व्यापार बढ़ाना चाहता है और दूसरी तरफ पाकिस्तान में फल-फूल रहे मसूद अजहर जैसे आतंकियों का पक्षधर है। चीन के विरोध के कारण ही यूनाइटेड नेशन्स मसूद अजहर को आतंकी घोषित कर उसके खिलाफ कार्रवाई नहीं कर पा रहा है। आज एक तरफ तो लगभग 150 चीनी व्यापारी नई दिल्ली में भारत सरकार से दोनों देशों के बीच व्यापार बढ़ाने के लिए बातचीत कर रहे हैं और दूसरी तरफ भारत में पाकिस्तान की तरफ से होने वाले आतंकी हमलों का खुल कर समर्थन भी दे रहे हैं। जब देश के बार्डर पर भारतीय जवानों का खून बह रहा है और जब देश के नागरिक चीनी माल का बहिष्कार कर रहे हैं तो ऐसे समय में सरकार को चाहिए कि वह भी चीन और अमेरिका को ‘गुड टेरर’ और ‘बैड टेरर’ का खेल खेलना बंद करने को कहे। जिस तरह बंदूक की नोक पर पाकिस्तान से बातचीत नहीं हो सकती, उसी तरह पाकिस्तान में पल रहे आतंकियों कि निंदा न करने वाले देशों के साथ व्यापार भी नहीं बढ़ाया जा सकता है। बंदूक के साये में चीन भारत में अपने सामान नहीं बेच सकता है।
-राजीव जायसवाल

(As published in Amar Ujala http://epaper.amarujala.com/dl/20161010/14.html?format=img#)

Does Oil Market Ring Alarm Bell for India?

God has been with the Modi Government. It is evident when one sees the downward trend of international oil prices since mid 2004. It dropped from over $100 per barrel to below $30 per barrel in January 2015. Thereafter, it stabilised around $40-45 a barrel. Currently, international oil prices are within India’s comfort zone. But, those who are perceptive can also hear an alarm bell. Last week, a dominant cartel of oil producers, OPEC announced a supply cut by almost 1 million barrels per day from the next month. This is first such announcement by the cartel in almost a decade. It will eventually hit India the most because after America and China, India is the world’s third largest petroleum importer. Interestingly, India snatched Japan’s third position in 2013-14 by doing nothing significant to reduce its import dependence. According to reports, India imported record crude oil in August this year. And this import dependence is growing alarmingly. India will soon lose its comfort if global crude oil prices breach $50 per barrel mark. History records treachery of international oil prices when it surged to $147 a barrel in July 2008 and then dropped below $40 in January next year only to jump again over $100 per barrel in about two years. India imports more than 80% of crude oil it processes. This import will increase further to sustain its fast economic growth. India’s energy import dependence is unlikely to decrease in the near future as no fresh investments were made in augmenting oil and gas output since 2009-10. There is an urgent need to reduce India’s import dependence else prices of petrol, diesel, kerosene and cooking gas would soar and hit the common man hard.

(Also published in Hindi on Oct 3, 2016 in Amar Ujala http://epaper.amarujala.com/dl/20161003/13.html?format=img)